ये 13 चीजें पूरी तरह निकाल देती हैं दांतों का मैल, एक बार यूज करिये और देखिये असरदार रिजल्ट…

0
10453

वो कहावत तो आपने सुनी ही होगी कि आपकी मुस्कराहट आपकी पर्सनालिटी में चार चाँद लगा देती है। लेकिन दांत में होने वाली कमियां जैसे दांत में पीलापन, सड़न, कालापन या फिर अच्छी तरह साफ न होने की वजह से हम पब्लिकली मुस्कुराने से कतराने लगते हैं।

जब आप लोगों के सामने अपनी खूबसूरत मुस्कान बिखेरती है तथा खुलकर हंसती हैं तो इससे यह पता चलता है कि आप कितने अच्छे से और कितने अंतराल में ब्रश करती हैं। असल में नेशनल डेंटल एसोसिएशन के अनुसार आपको दांतों की साफ़ सफाई एवं स्वास्थ्य के लिए रोज़ाना दो बार दांत ब्रश करने चाहिए। आप ब्रश करते करते नीचे दिए गए तरीकों का प्रयोग करके अपने ब्रश करने के अनुभव को एक नया आयाम दे सकते हैं।

मगर क्या कभी आपने सोचा है कि मुँह के अंदर होने वाली इन बीमारियों का असली कारण क्या है? दरअसल हमारी खानपान की आदतों और लापरवाही की वजह से मुँह के अंदर मसूंड़े और गम्स पर Tartar नामक एक बैक्टीरिया जमा हो जाता है। ये बैक्टीरिया इतना खतरनाक होता है कि दांतों में सड़न तक पैदा कर सकता है।

वो भोजन के कण जो दातों में खाने के बाद भी फसे हुए रह जाते है उन्हें हटाना और जीभ की भी नियमित तौर से की सफाई ओरल हाईजीन में आती है | अगर आप अपनी दैनिक आदतों में नहाने के बाद deo लगाना भी नहीं भूलते है तो आपके लिए जरुरी है आप ओरल हाईजीन की term को भी अपनी जिन्दगी में लागू करें | हर रोज ब्रश के साथ साथ जीभ और फ्लोसिग के जरिये सही से सफाई रखते हुए मुंह को health problems से बचके रख सकते है |

अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर इस बैक्टीरिया से बचा कैसे जाए? तो आज हम आपको बताएंगे ऐसे ही कुछ नुस्खे, जिनके बारे में जानकर आप अपने दांतों को फिर से चमकदार बना पाएंगे।
लेमन और मिंट ऑइल

 नींबू, पानी और मिंट ऑइल को मिलाकर एक मिश्रण तैयार कर लें। हर रोज इस मिश्रण की एक-एक बून्द मुँह में डालें। इससे ना केवल आप ताजगी महसूस करेंगे बल्कि ये आपके दांतों की हाइजीन भी बनाकर रखेगी।

घर में चाय, चटनी या खाने में प्रयोग की जाने वाली पुदीना पत्‍ती एक बारहमासी, खुशबूदार जड़ी है। इसकी विभिन्न प्रजातियां यूरोप, अमेरिका, एशिया, अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में पाइ जाती हैं, साथ ही इसकी कई संकर किस्में भी उपलब्ध हैं।

भारत में तो पुदीने का पड़े लगभग हर घर में लगा होता है। पुदीने का अर्क औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।कि हरा पुदीना किस तरह से हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिये फादेमंद है।और मिनट ऑयल यूज करने से दातों को साफ़ और सुरक्षित रखा जा सकता है|
रोजमेरी और मिंट

आधा कप रोजमेरी और एक कप मिंट को 2 कप पानी में उबाल लें। उबालने के बाद पानी को छानकर अलग कर लें और 15 मिनट तक ठंडा होने दें। ठंडा होने के बाद इस पानी को कुल्ला करने के लिए इस्तेमाल करें।

फ्लॉसिंग

 फ्लॉसिंग करना दांतों को साफ करने का एक बेहतरीन तरीका है। कई बार हमारा टूथब्रश वो काम नहीं कर पाता जो फ्लॉसिंग के माध्यम से आसानी से हो जाता है। अतः फ्लॉसिंग करना यकीनन आपके लिए बेहतर साबित होगा।

नारियल का तेल

 नारियल का तेल बैक्टीरिया नाशक माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जो लोग खाने में नारियल के तेल का इस्तेमाल करते हैं, उनके दांतों में सड़न की आशंका काफी हद तक कम हो जाती है। साथ ही ये कैविटीज़ को बढ़ने से रोकता है।

फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट

 टूथपेस्ट खरीदने के पहले ये जान लें कि टूथपेस्ट में फ्लोराइड है या नहीं। टूथपेस्ट में फ्लोराइड का होना हमारे दांतों की आउटर लेयर के लिए अच्छा होता है और दांतों में होने वाले इन्फेक्शन और कैविटी से बचाता है।

एलोवेरा जेल

 एलोवेरा जेल, ग्लिसरीन, बैकिंग सोडा, लेमन और पानी मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट से हफ्ते में दो बार ब्रश करें। इससे आपके दांतों में जमी कैविटी जल्द ही दूर होने लगेगी।

ऑरेंज का पील

 संतरे में एंटी ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। ऑरेंज पील यानी उसके गाढ़े रस को मुँह के अंदर डालकर कुछ समय के लिए छोड़ दें। उसके बाद पानी की सहायता से पेस्ट को मुँह से बाहर कर दें और मुँह धो लें।

फल-सब्जियों का उपयोग

 ये बात तो सभी जानते हैं कि जंक फ़ूड या ज्यादा तेल मसाले वाले खाने से हमारे दांतों में कैविटी बनना शुरू हो जाती है। इससे बचने के लिए फल-सब्जियों का अधिक से अधिक उपयोग करना चाहिए।

तिल का उपयोग

तिल को चबाना भी फायदे का सौदा साबित हो सकता है। लेकिन तिल को सिर्फ चबाएं, उन्हें निगले नहीं। चबाने के बाद इन्हें वापस थूक दें। तिल आपके दांतों से Tartar को वैसे ही निकाल देगा जैसे कोई स्क्रबर त्वचा से धूल-मिटटी और मृत त्वचा निकाल देता है।

अंजीर खाएं

अंजीर में पाए जाने वाले छोटे-छोटे दाने दाँतों में छिपी कैविटी और Tartar को निकाल फेंकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसके साथ ही ये गम्स को और भी ज्यादा मजबूत बनाते हैं इसलिए नियमित तौर पर अंजीर का सेवन करें।

नींबू

नींबू में एंटी-बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती है, जो दांतों में जमे प्लाक और Tartar को दूर करती है। रोजाना ब्रश करने के बाद नींबू के रस में ब्रश डुबाएं और इसके बाद उस रस से ब्रश करें। हफ्ते में एक बार ऐसा करना दांतों की सेहत के लिए अच्छा होगा।
नीम

 नीम में एंटी बैक्टीरियल तत्व होते हैं और बैक्टीरिया को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। नीम की पत्तियों से बने पेस्ट या फिर उसकी टहनियों से ब्रश करने पर आपको दांत के दर्द के साथ-साथ कैविटी से भी छुटकारा मिलेगा।

बेकिंग सोडा

 चार चम्मच बेकिंग सोडा लें और एक छोटे ब्रश की सहायता से धीरे-धीरे ब्रश करें। ब्रश करने के बाद गुनगुने पानी से कुल्ला करें। इसका उपयोग सप्ताह में दो बार अवश्य करना ही चाहिए।

ये सब चीजे हमारे किचन में आसानी से मिल जाती है। बस देर है तो हमारी कोशिशों की। वो बात तो आपने सुनी ही होगी, ‘जान है तो जहान है।’ अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here