जानिए देश के कुछ ट्रांसजेंडर्स की कहानियां, कोई है महापौर तो किसी की आ रही है फिल्म…

0
1845

ट्रेन या बस में हमारे पास कई तरह के लोग पैसे मांगने आते हैं। उनमें से एक अगर हमारे सिर पर हाथ रख दे तो हम खुश होकर उन्हें कुछ रुपए दे देते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इनके हाथ में बहुत बरकत होती है। यही लोग दिवाली या राखी जैसे कुछ खास मौकों पर भी हमारे घर चले आते हैं। मैं जिन लोगों की बात कर रही हूं, वो हैं ‘किन्नर’।

किन्नररों की दुनिया एक अलग तरह की दुनिया है जिनके बारे में आम लोगों को जानकारी कम ही होती है। इसके अलावा किन्नारों पर न ही ज्यादा शोध किया गया है। भारत में बीस लाख से ज्यादा किन्नहर है और निरंतर इनकी संख्या घट रही है,

मनुष्य के रूप में जन्म लेने के बावजूद किन्नर अभिशप्त जीवन जीने के लिए मजबूर हैं। किन्नरों के साथ होने वाले सामाजिक भेदभाव से उनका मनोबल टूटता है। उनके लिए न रोजगार की व्यवस्था है और न ही उनकी खुद की कोई परिवार जैसी इकाई है। सामाजिक भेदभाव की यह स्थिति समाप्त होनी चाहिए।

समय-समय पर दुनिया भर में विभिन्न मंचों पर मानवाधिकार उल्लंघन और मानवाधिकारों की बदतर स्थिति की चर्चा की जाती है, लेकिन कई मूलभूत सुविधाओं से वंचित और समाज की प्रताडऩा के शिकार किन्नरों की स्थिति पर बहुत कम लोगों का ध्यान जाता है।

भले ही हमारे देश में ‘किन्नरों’ को ‘लकी’ माना जाता है मगर फिर भी उन्हें समाज में वो सम्मान और जगह नहीं मिलती है, जिसके वे हकदार हैं। हम अक्सर ही थर्ड जेंडर के लोगों को हिकारत की नजर से देखते हैं। इनके पास बेसिक एजुकेशन और अधिकार भी नहीं होते हैं।

मगर देश में ऐसे कई ट्रांसजेंडर्स हैं, जिन्होंने इस भेदभाव से तंग आकर अपने लिए आवाज उठाने की ठानी। कुछ ट्रांसजेंडर्स ने सपने देखे और सारी बाधाओं को पार करते हुए इन्हें पूरा भी किया। आज हम आपको ऐसे ही कुछ ट्रांसजेंडर्स की कहानियां सुनाने वाले हैं।
किसी की आई कंगाली की खबर तो कोई बन चुका है करोड़पति, ऐसी जिंदगी जी रहे हैं KBC के विजेता
किसी ने खोला है रेस्त्रां तो कोई हैं इवेंट कंपनी की मालिक, कुछ ऐसे ही हैं टॉलीवुड एक्ट्रेसेस के बिजनेस
आने वाली है रोहित शेट्टी की ‘गोलमाल अगेन’, फिल्म में इस अभिनेत्री ने लिया करीना का स्थान
मानबी बंदोपाध्याय

प्रोफेसर मानबी बंदोपाध्याय पीएचडी करने वाली इंडिया की पहली ट्रांसजेंडर हैं। जून 2015 में मानबी कृष्णनगर वुमन कॉलेज की प्रिंसिपल बनी थीं। मानबी देश की पहली ट्रांसजेंडर प्रिंसिपल हैं।

सत्य राय नागपॉल

सत्य राय भारतीय सिनेमेटोग्राफर और एक्टिविस्ट हैं। वे ‘अलीगढ़’, ‘चौथी कूट’, ‘जिंदा भाग’, ‘गट्टू’ जैसी फिल्मों में सिनेमेटोग्राफर रह चुके हैं। सत्य राय ‘सम्पूर्ण’ नाम के एक ग्रुप के जरिए ट्रांसजेंडर्स के हक के लिए काम भी कर रहे हैं।

अंजलि अमीर

केरल में जन्मी अंजलि अमीर ने 20 साल की उम्र में सेक्स चेंज सर्जरी करवाई थी। अंजलि मलयालम सुपरस्टार Mammootty के साथ ‘Peranbu’ नाम की एक तमिल/मलयालम फिल्म में बतौर लीड एक्ट्रेस नजर आएंगी।

विहान पीताम्बर

विहान एक एक्टिविस्ट और मीडिया प्रोफेशनल हैं। केरल से ताल्लुक रखने वाले विहान 2016 में बतौर ट्रांसमैन दुनिया के सामने आए हैं।

पद्मिनी प्रकाश

पद्मिनी जब 13 साल की थी, तब उनके घरवालों ने उन्हें छोड़ दिया। वो तो आत्महत्या करना चाहती थीं मगर कुछ लोगों ने उन्हें बचा लिया। पद्मिनी ने संघर्ष किया और वो देश की पहली ट्रांसजेंडर टीवी एंकर बन गई।
आर्यन पाशा

आर्यन एक लड़की की तरह पैदा हुए थे, मगर उन्हें लड़की कहलाना कभी पसंद नहीं आया। हालांकि उन्हें ये समझने में बहुत समय लगा कि वो असल में क्या है? 18 साल की उम्र में दो सर्जरी करवाकर वो पूरी तरह लड़का बन गए। आर्यन पेशे से वकील हैं और एलजीबीटी कम्युनिटी के लीगल एम्पावरमेंट के लिए काम करते हैं।
मोना वेरोनिका कैम्पबेल

मोना देश की पहली प्लस-साइज्ड ट्रांसजेंडर मॉडल हैं। 16 साल की उम्र में मोना ने खुद को पहचाना। उन्होंने एनआईएफटी से ग्रेजुएशन किया, पीएचडी की और खुद का मेकअप लेबल भी लाई। Lakme Fashion week 2017 में मोना Wendell Rodricks के लिए शोस्टॉपर बनी थीं।
डॉ. कल्कि सुब्रमण्यम

तमिलनाडु की कल्कि सुब्रमण्यम ट्रांसजेंडर राइट्स एक्टिविस्ट, राइटर और एक्टर हैं। उन्होंने तमिल फिल्म ‘Narthagi’ , में काम किया था। इस मूवी में काम करके वो किसी फिल्म में लीड रोल करने वाली पहली इंडियन ट्रांसजेंडर बनी थीं। उन्होंने ट्रांसजेंडर लोगों के लिए ‘सहोदरी फाउंडेशन’ की भी स्थापना की।
क्रिस्टी राज

17 साल की उम्र में जब क्रिस्टी ने घर वालों को अपनी सच्चाई बताई और सेक्स चेंज की बात कही तो उन्होंने क्रिस्टी को पीटकर मरने के लिए छोड़ दिया। लेकिन आज क्रिस्टी एक जर्नलिस्ट हैं और एलजीबीटी कम्युनिटी के हक के लिए आवाज उठाती रहती हैं।
सांता खुरई

सांता खुरई मणिपुर की फेमस ट्रांसजेंडर एक्टिविस्ट हैं। सांता ने राज्य में पहला ट्रांसजेंडर सैलून खोलकर अन्य ट्रांसजेंडर्स को भी प्रेरित किया था। सांता All Manipur NupiMannbi Association(AMNMA) के जरिए ट्रांसजेंडर्स के अधिकारों के लिए काम कर रही हैं।
Living Smile Vidya

Living Smile Vidya या Smiley ट्रांसवुमन एक्टर, असिस्टेंट डायरेक्टर, और राइटर हैं। विद्या की लाइफ पर एक अवार्ड-विनिंग कन्नड़ डॉक्यूमेंट्री ‘Nannu Avanalla…Avalu भी बनी थीं। विद्या की ऑटोबायोग्राफी भी तमिल के साथ ही सात भाषाओं में लिखी गई थी।
मधु किन्नर

मधु किन्नर देश की पहली ट्रांसजेंडर महापौर हैं। मधु ने बतौर निर्दलीय उम्मीदवार रायगढ़ नगर निगम का चुनाव जीता था।

आर. रेवती

आर. रेवती एक्टिविस्ट होने के साथ ही लेखक भी हैं। उनकी बायोग्राफी ‘The Truth About Me – A Hijra life story’ को खूब सराहना मिली। उनकी किताबों को 100 यूनिवर्सिटीज में रिसर्च प्रोजेक्ट के लिए उपयोग में लिया जाता है। रेवती ने एक तमिल फिल्म में भी काम किया है।
लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी

लक्ष्मी ट्रांसजेंडर राइट्स एक्टिविस्ट, एक्टर और डांसर हैं। लक्ष्मी ने आईपीसी के सेक्शन 377 के खिलाफ लंबे समय तक आवाज उठाई। लक्ष्मी, बिग बॉस के साथ ही अन्य टीवी शोज में भी नजर आ चुकी हैं।
Gee Imaan Semmalar

Gee Imaan एक राइटर हैं और कई मैगजीन्स और प्लेटफॉर्म्स के लिए लिखते हैं। Gee की एक सर्जरी फैल हो गई थी, जिसके बाद ब्लॉग के जरिए उन्होंने ट्रांसमैन को जागरूक करने की कोशिश की थी।

हम किसी के बारे में भी बिना-सोचे समझे राय बना लेते हैं। मगर उसके जेहन में क्या चल रहा है, कभी नहीं सोचते। जरूरी है कि थर्ड जेंडर को भी सारे हक और सम्मान मिले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here