ये 15 तस्वीरें देखकर आप भी मान जाएंगे कि ट्रक ड्राइवर्स का अंदाज बहुत ही ‘कूल’ होता है…

0
1718

आप सबसे कूल किसे मानते हैं? यदि मैं आपसे ये सवाल करूं तो आप सभी के जवाब अलग-अलग होंगे। किसी के लिए यह कोई एक व्यक्ति होता है तो किसी के लिए कोई ग्रुप भी हो सकता है। वैसे आप खुद को भी कूल मान लें तो इसमें भी कोई हर्ज नहीं है।

लेकिन मुझे तो ऐसा लगता है कि ‘ट्रक ड्राइवर्स’ वाकई कूल होते हैं। यदि आपको ट्रक ड्राइवर्स के जलवे देखने हैं तो वो आपको हाईवे पर जाकर ही देखना चाहिए। वो प्लेन की गति से बड़े-बड़े ट्रक को दौड़ाते हैं। फिर भले ही ट्रक खाली हो या फिर भरा हुआ हो, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है।

रात में सुनसान इलाके से गुजरते वक्त भी उनके मन में किसी तरह का कोई खौफ नहीं होता है। कहीं भी ढाबे पर रुककर मस्त खाना खाते हैं। वहीं खाट पर थोड़ा सुस्ता लेते हैं। इसके बाद चाय पीकर निकल पड़ते हैं ट्रक को लेकर मंजिल की ओर।

कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक हाइवे पर ट्रक ड्राइव करने वाले इंडियन ट्रक ड्राइवर जल्द ही प्रफेशनल ट्रक रेसर बनने जा रहे हैं। इनमें दिल्ली से भी कई ड्राइवर शामिल हो रहे हैं।

पूरे इंडिया से 14 ट्रक ड्राइवर्स को फाइनल इवेंट के लिए सिलेक्ट किया गया है। ये इस इवेंट के इंडिया ट्रक रेसर ट्रॉफी कॉम्पिटिशन में हिस्सा लेंगे। इनके लिए टाटा प्राइमा ट्रक रेसिंग ऑर्गनाइजिंग टीम ने खास रेसर ट्रेनिंग प्रोग्राम लॉन्च किया है।

वहीं प्री फाइनल राउंड में सिलेक्ट हुए 25 ड्राइवरों में 16 नॉर्थ जोन से हैं। इनमें से ज्यादातर दिल्ली एनसीआर के ड्राइवर्स हैं। इस प्रोग्राम के कंसलटेंट विकी चंडोक के अनुसार इसका मकसद इंडियन ट्रक ड्राइवर्स को प्रोत्साहित कर उनकी लाइफस्टाइल को बेहतर बनाना है। हाइवे पर पुलिस प्रताड़ना और आम लोगों कीउपेक्षा झेलने वाले ये आम ट्रक ड्राइवर्स को प्राइड वाली जिंदगी मिल सके यही हमारा मकसद है।

बावजूद इसके ट्रक ड्राइवर्स से जुड़ी कुछ बातें हैं जो आपने कभी नोटिस नहीं की होगी। तभी तो हम आपके लिए यह स्टोरी लेकर आए हैं।
केक पर चेरी

इसे कहते है दिमाग लगाना। अब इतना सारा सामान जा रहा है तो एक बाइक तो साथ में जा ही सकती है।

हम नहीं रुकेंगे

किसने कहा कि ट्रक सिर्फ सड़कों पर ही चल सकते हैं। ये देखिए ये तो पटरी पर भी उतनी ही शान से चल रहे हैं।

इसमें तो हम माहिर हैं

ट्रकों का जिक्र हो और उनके पीछे लिखे स्लोगन्स की बात ना हो, ऐसा कैसे हो सकता है? ट्रक मालिकों के लिए उनका ट्रक बिल्कुल उनकी माशूका की तरह होता है।

अच्छा ऐसा क्या?

आपको लगता है कि ट्रक का कोई परिवार नहीं होता है, इसे देख लीजिए। ये ‘जहाजों’ के खानदान से ताल्लुक रखते हैं।

संवार लूं

देश में सजने-संवरने का ट्रेंड तो सालों पुराना है। यहां ट्रक ड्राइवर्स भी अपने ट्रक को बिल्कुल दुल्हन की तरह सजाते हैं।

एक झपकी हो जाए

अगर कोई पूछे कि चैन की नींद क्या होती है तो उसे यह तस्वीर दिखा देना।

एक नंबर जुगाड़

देखो ऐसा है कि जब हम वाकई सोना चाहते हैं तो कोई हमें ऐसा करने से रोक नहीं सकता है।
मस्त हेयरस्टाइल

इस ट्रक को देखकर तो यही लग रहा है कि किसी के सिर पर घने-घने घुंघराले बाल है।

आपको क्या लग रहा है?

इस तस्वीर को देखकर मुझे तो यही लग रहा है कि जैसे ये किसी का पूरा का पूरा लॉन उठाकर ले जा रहे हो।

सवारी पर सवारी

आमतौर पर तो लोग कार में ट्रेवल करते हैं। मगर यहां तो कार ही बस पर सवार होकर जा रही है।

साइज पर मत जाना

इनका साइज भले ही कम हो। मगर ताकत बहुत है बॉस। फिर इसको चलाने वाला भी तो एक्सपर्ट ही है ना।

कहां छुप गया?

आपको देखकर नहीं लग रहा है कि कोई पैराशूट इस ट्रक के ऊपर आकर गिर गया हो? इसने तो ट्रक को भी पूरा छुपा दिया।

पिक्चर टाइम

मुझे तो ये समझ नहीं आ रहा है कि इस गिरे हुए ट्रक में ऐसा क्या है जो कोई इसके साथ फोटो भी खिंचवाना चाहेगा।

जलपान हो जाए

इनका भी सही है। जहां जगह मिली वहीं खाना बनाया और खा भी लिया।

ऐसा भी होता है

इन कारनामों का एक सच यह भी है कि कभी-कभी इन बेचारे ट्रकों की हिम्मत भी जवाब दे जाती है। अक्सर ही सफर करते वक्त आपकी नजर भी इस तरह के ट्रकों पर पड़ ही जाती होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here